संवेग क्या है? सूत्र, मात्रक, प्रकार

संवेग क्या है?- सूत्र, मात्रक, प्रकार

संवेग क्या है?

“किसी वस्तु का संवेग उसके द्रव्यमान तथा वेग के गुणनफल के बराबर होता है।”

संवेग की परिभाषा: किसी भी वस्तु के द्रव्यमान और उसके वेग के गुणनफल को ही संवेग कहते हैं । यानी कि किसी भी वस्तु का द्रव्यमान और वेग दोनों को आपस में गुणा कर दिया जाए तब उस वस्तु का संवेग ( samveg ) प्राप्त हो जाता है । samveg एक सदिश राशि है । सदिश राशि का परिमाण और दिशा दोनों होता है । इसी तरह से संवेग का भी परिमाण और दिशा दोनों होता है।

संवेग एक सदिश राशि है, जिसको अंग्रेजी के अक्षर ‘P’ द्वारा प्रदर्शित किया जाता है, और इसकी दिशा वेग के समान होती है।

संवेग = द्रव्यमान × वेग

P =m x v

जहां, P = संवेग

m = वस्तु का द्रव्यमान

n = वस्तु का वेगकार

संवेग का मात्रक क्या है?

संवेग में दिशा और परिमाण दोनों होते हैं। इसकी दिशा वेग की दिशा के समान है, संवेग की SI इकाई किलोग्राम-मीटर प्रति सेकंड (kg.ms-1) है।

संवेग संरक्षण क्या है?

संवेग का संरक्षण भौतिकी का एक प्रमुख नियम है जिसमें कहा गया है कि यदि कोई बाहरी बल प्रणाली पर कार्य नहीं कर रहे हैं तो किसी निकाय का संवेग स्थिर रहता है। यह न्यूटन के प्रथम नियम या जड़त्व के नियम में सन्निहित है।

संवेग के संरक्षण के नियम की उदारतापूर्वक प्रयोग द्वारा पुष्टि की जाती है और इसे गणितीय रूप से उचित अनुमान पर भी निकाला जा सकता है कि अंतरिक्ष एक समान है।

संवेग संरक्षण का सूत्र क्या है?

संवेग संरक्षण के नियम का सूत्र है – p=p’ या m1v1+m2v2=m1v1’+m2v2′

संवेग का सूत्र क्या है?

संवेग का सूत्र है – p = mv

  • p = गति (momentum)
  • m = द्रव्यमान (mass)
  • v = वेग (velocity)

संवेग ऑपरेटर क्या है?

संवेग संवाहक रैखिक संवेग से जुड़ा संवाहक है। मोमेंटम ऑपरेटर, पोजीशन रिप्रेजेंटेशन में, डिफरेंशियल ऑपरेटर का एक उदाहरण है। एक स्थानिक आयाम में एक कण के मामले के लिए

संवेग के प्रकार –

संवेग दो प्रकार के होते हैं –

  1. रेखीय संवेग (Linear momentum)
  2. कोणीय संवेग (Angular momentum)

1. रेखीय संवेग क्या है?

पिंड के द्रव्यमान और उसके वेग के गुणनफल को रैखिक संवेग के रूप में जाना जाता है। जब कोई वस्तु किसी रेखा में गति कर रही हो या रैखिक गति कर रही हो तो उसमें रैखिक संवेग होता है। रैखिक गति सूत्र द्वारा दिया गया है

p = mv

यहाँ वेग v एक सदिश है और p रैखिक संवेग को इंगित करता है, इस प्रकार रैखिक संवेग भी एक सदिश राशि है। संवेग का SI मात्रक Kg.m/s है।

2. कोणीय संवेग क्या है?

जब कोई वस्तु वृत्त में घूम रही होती है तो उसमें कोणीय संवेग होता है। यह किसी वस्तु का गुण है जो उस वस्तु के घूर्णन जड़त्व की विशेषता है। कोणीय गति को रैखिक गति और लंबवत दूरी r के क्रॉस-उत्पाद के रूप में परिभाषित किया गया है।
यह एक सदिश राशि भी है और एल द्वारा इंगित किया जाता है। कोणीय गति सूत्र द्वारा दिया जाता है

L = m v r

Leave a Comment