गति किसे कहते हैं? – परिभाषा, मात्रक, प्रकार

गति किसे कहते हैं? - परिभाषा, मात्रक, प्रकार

गति किसे कहते हैं?

परिभाषा: जब कोई पिंड समय के साथ अपनी स्थिति नहीं बदलता है, तो हम कह सकते हैं कि शरीर आराम पर है, जबकि यदि कोई पिंड समय के साथ अपनी स्थिति बदलता है, तो इसे गति में कहा जाता है।

गति का SI मात्रक क्या है?

गति की SI मात्रक मीटर / सेकंड (m/s) है।

विमीय के आधार पर गति के प्रकार

1. एक विमीय गति

2. द्विविमीय गति

3. त्रिविमीय गति

इसके बारे में नीचे विस्तृत से बताया गया है, जो कि निम्न प्रकार से हैं

एक विमीय गति (One dimensional motion)

एक विमीय गति एक कण की गति है जो एक सीधी रेखा के साथ चलती है।

द्विविमीय गति (Two-dimensional motion)

द्विविमीय गति एक समतल में वक्र पथ के अनुदिश गतिमान एक कण में होता है
द्विविमीय गति।

त्रिविमीय गति (Three dimensional motion)

त्रिविमीय गति अंतरिक्ष में बेतरतीब ढंग से घूमने वाले कण में त्रिविमीय गति होती है।

गति के प्रकार

  • दोलनीय गति (Oscillatory Motion)
  • घूर्णन गति (Rotational Motion)
  • अनुवादकीय गति (Translatory Motion)
  • प्रक्षेप्य गति (Projectic Motion)
  • वृत्तीय गति (Circular Motion)
  • रेखीय गति (Linear Motion)
  • एकसमान गति (Uniform Motion)
  • असमान गति (Non-uniform Motion)

इन सभी के बारे में विस्तृत में वर्णन निम्न प्रकार से है।

दोलनीय गति (Oscillatory Motion)

यह एक प्रकार की गति है जो एक समय सीमा के भीतर प्रकृति में दोहराई जाती है। यदि यह यांत्रिक है तो इसे कंपन कहा जाता है।

घूर्णन गति (Rotational Motion)

वह गति जिसमें कोई वस्तु एक निश्चित अक्ष के परितः वृत्ताकार पथ पर गति करती है, घूर्णन गति कहलाती है।

अनुवादकीय गति (Translational Motion)

वह गति जिसमें किसी गतिमान पिंड के सभी बिंदु समान दिशा में समान रूप से गति करते हैं। यदि कोई वस्तु अनुवादकीय गति से गुजर रही है, तो हम देख सकते हैं कि वस्तु के अभिविन्यास में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है।  अनुवादकीय गति को अनुवाद की गति के रूप में भी जाना जाता है।

प्रक्षेप्य गति (Projectic Motion)

प्रक्षेप्य गति हवा में फेंकी या प्रक्षेपित किसी वस्तु की गति है, जो केवल गुरुत्वाकर्षण के त्वरण के अधीन है। वस्तु को प्रक्षेप्य कहा जाता है, और उसके पथ को प्रक्षेपवक्र कहा जाता है।

वृत्तीय गति (Circular Motion)

वृत्तीय गति को वृत्ताकार पथ पर घूमते हुए किसी वस्तु की गति के रूप में वर्णित किया जाता है। वृत्तीय गति या तो एकसमान या असमान हो सकती है। एकसमान वृत्तीय गति के दौरान घूर्णन की कोणीय दर और गति स्थिर रहेगी जबकि असमान गति के दौरान घूर्णन की दर बदलती रहती है।

रेखीय गति (Linear Motion)

रेखीय गति सभी गतियों में सबसे बुनियादी है। न्यूटन के गति के पहले नियम के अनुसार, जिन वस्तुओं पर किसी भी शुद्ध बल का अनुभव नहीं होता है, वे एक सीधी रेखा में एक स्थिर वेग के साथ तब तक चलती रहती हैं जब तक कि वे एक शुद्ध बल के अधीन न हों।

एकसमान गति (Uniform Motion)

एक वस्तु को एकसमान गति की स्थिति में कहा जाता है यदि वह समान समय अंतराल में समान दूरी तय करती है। यदि समय दूरी का ग्राफ एक सीधी रेखा है तो गति को एकसमान गति कहते हैं।

असमान गति (Non-uniform Motion)

एक वस्तु में असमान गति होती है यदि वह समान समय अंतराल में असमान दूरी तय करती है

उदाहरण – स्वतंत्र रूप से गिरने वाला शरीर।

Leave a Comment